chessbase india logo

लेकसिटी समर कप - मध्यप्रदेश के मुरारीलाल विजेता

12/05/2018 -

लेकसिटी उदयपुर अब धीरे धीरे अपने अच्छे आयोजनो के चलते बी केटेगरी टूर्नामेंट मे भारत का प्रमुख स्थान बनता जा रहा है और अमेच्योर टूर्नामेंट (  2000 रेटिंग से कम ) के लिए उनके आयोजन अब देश भर से खिलाड़ियों को आकर्षित करते नजर आते है । पिछले दिनो ग्रांड मास्टर भास्करन अधिबन को आमंत्रित कर उन्होने खिलाड़ियों को उनके अनुभव से लाभान्वित तो कराया ही नन्हें बच्चो को प्रेरणा देने का काम भी किया । खैर विगत दिनो उदयपुर में हुई एक अन्य लेकसिटी समर कप शतरंज प्रतियोगिता का खिताब मध्यप्रदेश के मुरारीलाल कोरी नें जीत लिया ,लगभग 391 खिलाड़ियों नें इसमें प्रतिभागिता की पढे आयोजन सचिव विकास साहू का यह लेख । 

तेपे सिगमन शतरंज - विदित बने सयुंक्त विजेता

12/05/2018 -

विदित गुजराती नें तेपे सेगमन शतरंज चैंपियनशिप का सयुंक्त विजेता बनकर अपने प्रसंशकों को खुश होने का मौका तो दिया ही साथ ही उम्मीद है अंतिम दो राउंड मे उन्हे मिली दो जीत उनमें आत्मविश्वास का संचार करेगी । इस जीत से विदित पुनः एक बार 2710 रेटिंग अंको पर पहुँच गए है । एक समय प्रतियोगिता में उनके 2700 अंको से नीचे आने का खतरा नजर आने लगा था पर सही समय पर मोरोज़ोविच पर मिली जीत नें उनकी वापसी का रास्ता खोल दिया और अंतिम राउंड में  स्वीडन के जानसन लीनूस के खिलाफ जीत दर्ज करते हुए सयुंक्त विजेता होने का गौरव हासिल कर लिया । ऐरोफ़्लोट ओपन में अपने खराब प्रदर्शन के बाद इस टूर्नामेंट में विदित नें जीत की राह वापस पकड़ी और उम्मीद है भारत का यह युवा सितारा अब और बेहतर प्रदर्शन करने के लिए तैयार है । 

पंजाब शतरंज को नई ऊँचाइयाँ दे रहे अभिजय चोपड़ा

11/05/2018 -

पंजाब शतरंज को बढ़ावा देते और नशे को समाप्त करने के उद्देश्य से शतरंज को माध्यम बनाकर सामने लाने वाले पंजाब केसरी समूह के युवा डायरेक्टर अभिजय चोपड़ा को अब पंजाब शतरंज संघ नें उनके खेल को नयी ऊँचाइयाँ देने के प्रयासो के लिए संरक्षक सदस्य घोषित करते हुए सम्मानित किया है । आपको बता दे की उनके निर्देशन में पंजाब केसरी हर माह बच्चो से लेकर बड़ो तक के लिए शतरंज प्रतियोगिता का आयोजन करता है जहां उन्हे हर तरह की निः शुल्क सुविधा तो दी ही जाती है साथ ही साथ प्रतियोगिता का कोई शुल्क नहीं होता पुरुष्कार स्वरूप खिलाड़ियों को उनके खेल के विकास के लिए कभी सॉफ्टवेयर तो कभी किताबे तो कभी ट्रेनिंग चेसबेस अकाउंट दिये जाते है । आइये जानते है क्या हो रहा है पंजाब शतरंज में और अभिजय की सोच क्या पंजाब शतरंज के साथ साथ भारतीय शतरंज के लिए भी एक नया आयाम है । 

तेपे सिगमन शतरंज - विदित की मोरोज़ोविच पर जीत

08/05/2018 -

मालमो ,स्वीडन में चल रहे छह दिग्गज ग्रांड मास्टरों के बीच चल रही तेपे सेगमेन शतरंज में शुरुआती पहले तीन राउंड में भारत के युवा सितारे ग्रांड मास्टर विदित गुजराती नें मैच ड्रॉ खेले और ऐसा लग रहा था की टॉप सीड विदित के लिए खिताब जीतना संभव नहीं है लेकिन अंतिम राउंड के ठीक  पहले राउंड में उन्होने रूस के दिग्गज ग्रांडमास्टर अलेक्ज़ेंडर मोरोज़ोविच को पराजित करते हुए अपने खिताब जीतने की उम्मीद कायम रखी है । लगभग बराबर से चल रहे मैच में मोरोज़ोविच की हाथी की एक गलत चाल का फायदा उठाते हुए विदित नें ना सिर्फ यह जीत दर्ज की बल्कि अब अंतिम राउंड में  स्वीडन के जानसन लीनूस के खिलाफ जीत की तलाश होगी और यह जीत उन्हे खिताब भी दिला सकती है ।और आज आपके लिए लेकर आए है हम विदित - मोरोज़ोविच के मैच का हिन्दी विश्लेषण !!

रोहित रैपिड तो दिनेश बने ब्लिट्ज नेशनल चैम्पियन

06/05/2018 -

पेट्रोलियम स्पोर्ट्स बोर्ड के ग्रांड मास्टर रोहित ललित बाबू और एलआईसी के इंटरनेशनल मास्टर दिनेश शर्मा नें क्रमशः नेशनल रैपिड और ब्लिट्ज शतरंज के खिताब अपने नाम कर लिए । 5 दिन तक चली इस राष्ट्रीय स्पर्धा में इस बार अधिक उत्साह देखा गया और कई चौंकाने वाले परिणाम देखने को मिले । बात करे रैपिड की तो दिनेश शर्मा नें रोहित को पराजित करने के बाद  खिताब के नजदीक जाकर भी खिताब नहीं जीत सके और तीसरे स्थान पर रहे जबकि रोहित को बेहतर टाईब्रेक नें विजेता बना दिया । ब्लिट्ज में जहां रोहित को रोकना मुश्किल था  ऐसे में दिनेश शर्मा नें खराब स्थिति से वापसी करते हुए ना सिर्फ उन्हे पराजित किया बल्कि आधा अंक की बढ़त के साथ यह खिताब हासिल कर लिया वैसे तो आयोजको नें हर तरह से शानदार इंतजाम किए और खेल के माहौल को ऊंचा बनाए रखा पर पुरूष्कार वितरण में विजेता खिलाड़ियों को सिर्फ पुरुष्कार राशि देने और ट्रॉफी ना देने से हर तरफ इस निर्णय नें सभी को चौंकाया !

भारत के अरविंदर बने विश्व अमेच्योर चैम्पियन

04/05/2018 -

भारत के नाम विश्व अमेच्योर शतरंज चैम्पियन का खिताब रहा है और यह कारनामा किया है पंजाब के रहने वाले और रेल्वे में कार्यरत अरविंदर प्रीत सिंह नें उन्होने  56 देशो के 245 खिलाड़ियों के बीच उन्होने अपनी श्रेष्ठता साबित करते हुए यह खिताब अपने नाम किया । 26 वे वरीय अरविंदर नें दूसरे राउंड में मिली हार के बाद पीछे मुड़कर नहीं देखा और फिर अगले 7 मैच में से 6 मैच जीतकर ना सिर्फ स्वर्ण पदक , विश्व खिताब बल्कि फीडे मास्टर होने का भी गौरव हासिल कर लिया । अंतिम तीन राउंड में लगातार तीन जीत उनके लिए सबसे खास रही । उनके अलावा भारत की संध्या जी नें भी महिला वर्ग का कांस्य पदक हासिल किया । 

कार्लसन बने शमकिर के शहंशाह !!

03/05/2018 -

शमकिर मास्टर्स का खिताब मेगनस कार्लसन नें ना सिर्फ खिताब अपने नाम किया बल्कि अपने लय में लौटने के भी सबूत दिये और दिखाया की वह अब भी विश्व शतरंज के विजेता का खिताब कायम रखने के लिए पूरी तरह से तैयार है . अंतिम पाँच राउंड में से  3 मैच में जीत दर्ज कर उन्होने ना सिर्फ खिताब पर कब्जा जमाया बल्कि अपनी रेटिंग को वापस मजबूती प्रदान की । चीन के डिंग लीरेन नें भी अंतिम चार राउंड में अच्छा खेल दिखाया और अविजित रहने के अपने रिकार्ड को बरकरार रखते हुए दूसरा स्थान हासिल किया और वह भी भविष्य में और बेहतर होंगे यह संकेत साफ है । सेरगी कार्याकिन कई दावेदारों को पीछे छोड़ते हुए तीसरे स्थान पर रहे जबकि अनीश गिरि और वेसलिन टोपालोव अपनी बढ़त को सम्हाल नहीं  पाये । पढे तह लेख 

शमकिर मास्टर शतरंज - क्या टोपालोव जीतेंगे खिताब

26/04/2018 -

पूर्व दिग्गज खिलाड़ी गसिमोव की याद में आयोजित होने वाले शमकिर सुपर ग्रांड मास्टर टूर्नामेंट  में पूर्व विश्व चैम्पियन वेसलिन टोपालोव अपने अनुभव और किस्मत दोनों के सहारे सबसे आगे चल रहे है और अगर वह यह खिताब जीतते है तो यह अंतर्राष्ट्रीय शीर्ष स्तर के शतरंज में उनकी जोरदार वापसी हो साबित हो सकती है , साथ ही साथ विश्व चैम्पियन मेगनस कार्लसन के जीत के प्रतिशत में लगातार कमी देखने को मिल रही है फिलहाल वह 5 ड्रॉ और 1 जीत के साथ वैसे तो टोपालोव से ठीक आधा अंक पीछे है पर उनके साथ नीदरलैंड के अनीश गिरि भी एक जीत के साथ सयुंक्त दूसरे स्थान पर कायम है खैर कुल मिलाकर शतरंज प्रेमियों के दिमाग में तीन बाते चल रही है पहली क्या कार्लसन अपनी लय में लौटेंगे ? क्या अनीश गिरि और भी जीत दर्ज कर खिताब हासिल करेंगे या फिर टोपालोव खिताब अपने नाम करेंगे !!

प्रग्गा को फिशर मेमोरियल का खिताब ,दूसरा जीएम नार्म

24/04/2018 -

कहते है कई बाते सही समय पर ही होती है , जब प्रग्गानंधा 10 वर्ष की उम्र में इंटरनेशनल मास्टर बने तो सभी की निगाहे कार्याकिन के सबसे कम उम्र के ग्रांड मास्टर बनने के विश्व रिकार्ड पर लग गयी और प्रग्गा विश्व जूनियर चैम्पियन बनने के करीब पहुँचकर वह रिकार्ड भी तोड़ने के करीब पहुँच गए थे पर ऐसा नहीं हो सका और ऐसे कई मौके आए जब वह नार्म अंतिम समय पर चूक गए । लेकिन अब जब उनकी उम्र रिकार्ड तोड़ने की तय सीमा से ज्यादा हो गयी लगता है उनके उपर बना दबाव भी हट गया है । ग्रीस में हुए टूर्नामेंट में उन्होने अपने बेहतरीन खेल से ना सिर्फ विजेता बनने का गौरव हासिल किया बल्कि अपना दूसरा ग्रांड मास्टर नार्म भी हासिल कर लिया । पढे सागर शाह के अँग्रेजी में लिखे बेहद शानदार लेख का हिन्दी अनुवाद !  

गिरीश बने अक्षयकल्पा कर्नाटक शतरंज विजेता

22/04/2018 -

बैंगलोर में सम्पन्न हुई एतिहासिक अक्षयकल्पा कर्नाटक राज्य शतरंज स्पर्धा का खिताब पूर्व विश्व अंडर 10 चैम्पियन गिरीश कौशिक नें अपने नाम कर लिया । पाँच दिन तक चली इस प्रतियोगिता नें भारतीय शतरंज के इतिहास में राज्य स्तर की प्रतियोगिता का एक नया मापदंड स्थापित कर दिया । तकरीबन 1000 खिलाड़ी और विश्व स्तरीय इंतज़ामों के बीच खेली गयी स्पर्धा में अक्षयकल्पा नें शतरंज खेल को चुनकर ना सिर्फ इस खेल को और बेहतर बनाने में मदद की है बल्कि अन्य राज्यो को भी प्रेरित किया है की वह भी ऐसे आयोजन आयोजित भविष्य में आयोजित कर सकते है । पाँच दिवसीय इस स्पर्धा के दौरान प्रकृति और उसके रख रखाव से संबन्धित रोज किसी ना किसी विद्वान नें अपने विचार सामने रखे तो चेसबेस इंडिया नें कर्नाटक के कोने कोने से आए नन्हें खिलाड़ी और उनके अभिभावकों को शतरंज खेल की बारीक जानकारी से लेकर विश्व के बेहतरीन शतरंज साहित्य और तकनीक से अवगत कराया । कुल मिलाकर अक्षयकल्पा नें कर्नाटक शतरंज का नया काया कल्प कर दिया है !  

अक्षयकल्पा कर्नाटक चैंपियनशिप - एक नयी सुबह !

16/04/2018 -

यकीन मानिए 14 अप्रैल 2018 ना सिर्फ कर्नाटक बल्कि भारतीय शतरंज जगत के लिए एक नया इतिहास रचने वाला दिन था । कर्नाटक की एक दूध का उत्पादन करने वाली संस्था अक्षयकल्पा नें शतरंज जैसे खेल से बच्चो के जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव को समझते हुए कर्नाटक राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में एक विश्व स्तरीय बदलाव लाने का संकल्प लिया और यह कोई साधारण प्रयास नहीं था इसकी व्यापकता आप इसी से समझ सकते है की प्रतियोगिता की पुरुष्कार राशि 10 लाख रुपेय है मैच के लिए विश्व स्तरीय इंतजाम किए गए है । खेल का सीधा प्रसारण किया जा रहा है , तरह तरह के सेमिनार आयोजित किए जा रहे । और एक बड़ा कदम ब्लाईंड शतरंज के बादशाह किशन गांगुली अब  अक्षयकल्पा के ब्रांड प्रतिनिधि बनाए गए है और अब किशन उनके सहयोग से विश्व चैम्पियन बनने का अपना सपना जरूर पूरा करेंगे , चेसबेस इंडिया की टीम इस आयोजन का हिस्सा बन कर गर्व महसूस कर रही है । शुरुआती चार राउंड के बाद सभी प्रमुख खिलाड़ी आसानी से आगे बढ्ने में कामयाब रहे है ।