chessbase india logo

किशन गांगुली नें रचा इतिहास जीता 5वां राष्ट्रीय ब्लाइंड खिताब

by Niklesh Jain - 13/02/2018

कर्नाटक के किशन गांगुली नें कुल 13 मैच में से सर्वाधिक 10.5 अंक बनाते हुए  इतिहास रचते हुए लगातार पाँचवी नेशनल ब्लाइंड शतरंज चैंपियनशिप का खिताब अपने नाम कर लिया । भारतीय ब्लाइंड शतरंज चैंपियनशिप जिसका यह 13वे संस्करण था उसमें यह अब तक का राष्ट्रीय रिकार्ड बन गया है । दूसरे स्थान  पर गुजरात के अश्विन माकवाना रहे जिन्होने 9.5 अंक जुटाये , उड़ीसा के सौन्दर्य प्रधान 9 अंको के साथ तीसरे , महाराष्ट्र के आर्यन जोशी 8.5 अंको के साथ चौंथे तो उड़ीसा के शुभेन्दु पात्रा 7.5 अंको के साथ पांचवे स्थान पर रहे । ये पांचों खिलाड़ी आगामी जुलाई में बुल्गारिया में होने वाली विश्व टीम शतरंज चैंपियनशिप में भाग लेंगे । एक समय संकट में नजर आ रही इस प्रतियोगिता में कुल 1,51,000 की पुरुष्कार राशि भी दी गयी ये अपने आप में एक बड़ी बात  है क्यूंकी यह सब कुछ आप सभी के सहयोग से संभव हो पाया । भारतीय ब्लाइंड शतरंज के इतिहास में मुंबई में हुई यह प्रतियोगिता हमेशा के लिए इतिहास में कई बातों के लिए दर्ज हो गयी । 

 

अंधेरी स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में नेशनल ब्लाइंड का यह पड़ाव इतिहासिक रहा 

और इस तरह 13 राउंड के इस जोरदार मुक़ाबले और कई उतार चढ़ाव के बीच पुरुष्कार का समय आ ही गया  ( फोटो - अमृता मोकल )

तो इस तरह इन धुन के पक्के खिलाड़ियों नें 13 राउंड की यह स्पर्धा कई मुश्किलों से जूझते हुए हँसते हँसते पूरी कर ली 

और अंततः विजेता बनकर उभरा वह सितारा जो पहले भी 4 बार यह खिताब अपने नाम कर चुका है । कर्नाटक के किशन गांगुली 10.5/13 बनाकर विजेता रहे !! ( फोटो - अमृता मोकल )

सुने क्या कहना है उनका खिताब जीतने के बाद !


किशन नें प्रतियोगिता में खुद को सबसे बेहतर साबित किया और पूरे समय नियंत्रित खेलते दिखे !

9.5/13 के स्कोर के साथ दूसरे स्थान पर गुजरात के अश्विन माकवाना रहे जिन्होने भी खासा प्रभावित किया  ( फोटो - अमृता मोकल )

अश्विन नें चेसबेस इंडिया से बातचीत की !

उड़ीसा के सौन्दर्य प्रधान 9 अंको के साथ तीसरे स्थान पर रहे  ( फोटो - अमृता मोकल )

अपने पढ़ाई के कारण बिना तैयारी के कैसे तीसरे स्थान पर रहे सौन्दर्य प्रधान ! सुने  उनसे 

एक और बेहद प्रतिभावान खिलाड़ी महाराष्ट्र के आर्यन जोशी 8.5 अंक बनाकर चौथे स्थान पर रहे  ( फोटो - अमृता मोकल )

अंतिम वरीयता प्राप्त उड़ीसा के शुभेन्दु कुमार पात्रा नें सभी को चौंकाते हुए टॉप 5 में जगह तो बनाई ही विश्व टीम चैंपियनशिप में भारत की ओर से खेलने का गौरव भी हासिल कर लिया । उन्होने कुल 7.5 अंक बनाए ! ( फोटो - अमृता मोकल )

तो इस प्रकार ये पाँच खिलाड़ी विश्व चैंपियनशिप के लिए जगह बनाने में कामयाब रहे 

छोटे भाई तो आगे निकल गए पर बड़े भाई प्राचुर्य प्रधान भी छठे स्थान पर पहुँच ही गये उन्होने कुल 7 अंक बनाए ! ( फोटो - अमृता मोकल )

तमिलनाडू के मारीमुत्थु पी 6.5 अंक बनाकर सातवे स्थान पर रहे ,चेसबेस सीईओ सागर शाह नें उन्हे पुरुष्कार दिया  ( फोटो - अमृता मोकल )

कर्नाटका के कृष्णा उडुपा का शतरंज मे योगदान वैसे ही सराहने योग्य है । यहाँ खेलते हुए 5.5 अंक के साथ वह आठवे स्थान पर रहे 

बंगाल के युद्धजीत दे 5.5 अंक के साथ नौवे स्थान पर रहे और उन्हे रघुनन्दन गोखले जी नें पुरुष्कार दिया 

5.5 अंक एक साथ महाराष्ट्र के शिरीष पाटिल भी शीर्ष 10 मे जगह बनाने मे कामयाब रहे 

महाराष्ट्र के मिलिंद सामंत 4.5 अंको के साथ ग्यारहवे 

स्वप्निल शाह 4.5 अंक के साथ बारहवे 

बंगाल के दीपत्यजीत 4 अंको के साथ तेरहवे और 

महाराष्ट्र के गौरव गड़ोडिया 3 अंको के साथ अंतिम 14 वे स्थान पर रहे पर यह मुस्कान बताती है जीत हार से ज्यादा उन्होने यहाँ बहुत कुछ पाया । 

मुख्य निर्णायक मंजूनाथ जैन की जितनी तारीफ की जाए वो कम है 

द्रोणाचार्य अवार्डी रघुनंदन गोखले जी कार्यक्रम के मुख्य अतिथि नें इस आयोजन की खूब सराहना की 

विशेष अतिथि सुशीर लोहिया जी भी यहाँ आकर बेहद खुश नजर आए 

वैसे तो चेसबेस इंडिया के सीईओ सागर शाह यहाँ प्रतियोगिता को कवर करने आए थे मगर जब यहाँ आकर उन्होने देखा की प्रतियोगिता का आयोजन मुश्किल में है उन्होने चेसबेस इंडिया के अपने लेख के माध्यम से लोगो से सहयोग देने की अपील की और फिर क्या था जैसे सारा भारत मदद के लिए आ खडा हुआ । सागर एक लेखक से ज्यादा आयोजक बन गए और इस प्रतियोगिता को सफल करा कर ही दम लिया । कल ही उन्हे महाराष्ट्र सरकार के सबसे बड़े खेल पुरुष्कार शिवाजी पुरुष्कार मिलने की घोषणा हुई है । बहुत -2 बधाई सागर आप के अच्छे काम यूं ही जारी रहे !

चारुद्दत जाधव जी जिन्हे हम ब्लाइंड शतरंज का भीष्म पितामह भी कह सकते है अपने प्रयासो से इसे एक नयी बुलंदी तक ले आए है ! विदित गुजराती नें भी ब्लाइंड शतरंज का ब्रांड एम्बेस्डर बनकर इसे एक मजबूत सहयोग प्रदान किया है । 

विश्वनाथन आनंद जी से मिलकर तो जैसे खिलाड़ियों नें अपना एक सपना पूरा किया 

विदित नें क्या सीखा इस टूर्नामेंट से जाने आप भी 

चेसबेस इंडिया की पूरी टीम जो इस मैच के दौरान आपके लिए हर तरह की खबरे लाते रहे , अमृता की तस्वीरों नें हमें इन खिलाड़ियों की तकलीफ़ों से लेकर उनके कभी हार ना मानने वाले जज्बे से हमारा परिचय कराया । अतुल नें मैच के सीधे प्रसारण में एक शानदार भूमिका का निर्वहन किया । तो नन्हें अवतांशु ने बताया की कैसे लेखन में उम्र कोई बाधा नहीं होती !! शानदार कार्य के लिए आप सभी को बधाई !!