chessbase india logo

वेसली सो :: लंदन क्लासिक और ग्रांड चैस टूर विजेता

by निकलेश जैन - 21/12/2016

पिछले 10 दिनो से लंदन में चल रहे लंदन चैस क्लासिक का खिताब अंततः शुरुआत से ही बढ़त पर चल रहे युवा और बेहद प्रतिभाशाली अमेरिका के वेसली सो ने जीत लिया इसके साथ ही वो अपने खेल जीवन में पहली बार विश्व नंबर 4 और 2800 ज्यादा रेटिंग वाले खिलाड़ी बन जाएंगे उन्होने साथ ही ग्रांड चैस टूर विजेता खिताब भी अपने नाम कर लिया साथ ही कुल मिलाकर जीसीटी से उन्होने 295000 पाउंड मतलब करीब 2 करोड़ 59 लाख रुपेय पुरुष्कार के तौर पर अपने नाम किए । दूसरे स्थान पर 5.5 अंको के साथ अमेरिका के फेबियानों करूआना रहे तीसरे स्थान पार सयुंक्त रूप से भारत के विश्वनाथन आनंद ,अमेरिका के नाकामुरा और रूस के पूर्व विश्व चैम्पियन व्लादिमीर क्रामनिक रहे  दोनों से कोई भी एक जीत दर्ज करके दूसरे स्थान पार पहुँच सकता था पर मैच बराबरी पर छूटा और दोनों के 5 अंक ही रह गए वही नाकामुरा भी इंग्लैंड के एडम्स से ड्रॉ खेलकर 5 अंको पर पहुँच गए थे । ऐसे में तकनीकी तौर पर टाई ब्रेक के आधार पर क्रामनिक तीसरे आनंद चौंथे और नाकामुरा पांचवे स्थान पर रहे ।

 

वेसली सो ने जीता लंदन क्लासिक , आनंद रहे सयुंक्त तीसरे स्थान पर

 

पुरुष्कार लेते अमेरिकन ग्रांड मास्टर वेसली सो 
धीरे धीरे यह नाम आसमान छूने की उम्मीद जगा रहा है !!
वेसली सो नें अपना आखिरी मैच एमएलवी से ड्रॉ खेला और तकरीबन 2 करोड़ 59 लाख रुपेय पुरुष्कार के तौर पर अपने नाम किए साथ ही लंदन और पूरे ग्रांड टूर के विजेता का खिताब भी 

वेसली जिस अंदाज में खेल रहे है आने वाले समय में क्या वह केंडीडेट भी जीत सकते है यह देखना होगा !

अपने खेल जीवन में पहली बार विश्व नंबर 4 और 2800 ज्यादा रेटिंग वाले खिलाड़ी बन जाएंगे सो

हर सफल शतरंज खिलाड़ी के पीछे एक माँ होती है यहाँ भी वेसली की माँ  लोटिस की ध्यान रखती है उनकी हर छोटी बड़ी  जरूरत का ताकि वो खेल में ध्यान लगा सके 
आनंद और क्रामनिक दोनों के बीच ही अंतिम राउंड का मुक़ाबला था और दोनों से कोई भी एक जीत दर्ज करके दूसरे स्थान पार पहुँच सकता था पर मैच बराबरी पर छूटा

ग्रांड चैस टूर 2017 के लिए आनंद अपनी जगह पक्की नहीं कर पाये है मतलब अब वो अगले संस्कारण में तभी खेल पाएंगे जब उनकी रेटिंग और विश्व रैकिंग दोनों में लगातार सुधार होगा खैर रेटिंग के हिसाब से आनंद को इस टूर्नामेंट से लगभग 6 अंको का फायदा हुआ है और अब वो विश्व रैकिंग में आठवे से छठवे स्थान पर आ गए है और ये एक अच्छा संकेत है उम्मीद है हमेशा की तरह आनंद और बेहतर वापसी भी करेंगे कल उन्होने कहा भी की “मेरी खुद से आकांक्षाए बहुत ऊंची है और मैं अभी बहुत शतरंज खेलने वाला हूँ
दूसरे की जीत पर उसे अच्छे खेल की बधाई देना एक स्वस्थ्य खेल भावना की पहचान है !! आनंद सो को बधाई देते हुए  (फोटो -Lennart Ootes )

फेबियानों नें आज नीदरलैंड के अनीश गिरि के साथ ड्रॉ खेला मैच जीतकर उनके पास वेसली की बराबरी करने का मौका था पर वे अनीश के मजबूत खेल से पार नहीं पा सके फेबियानों भले दूसरे स्थान पर रहे पर वो तेजी से कार्लसन की ओर बढ़ रहे है 
अब ये फासला सिर्फ 12.5 अंको का रह गया है ! क्रामनिक जहां अपनी जगह बनाए हुए है वही वेसली इस समूह के नए सदस्य है 
अनीश गिरि और ड्रॉ ये  दोनों काफी पक्के मित्र बन चुके है !! 9 में से 9 ड्रॉ ! मजबूत मगर जीत की तलाश में  परेशान अनीश !
अंततः जाते जाते टोपालोव नें अर्नोनियन को हारा अपनी पहली जीत दर्

और आज टोपालोव कुछ ये कह सकते है की "अंत भला तो सब भला "

वो आज शायद वेसली से भी ज्यादा खुश थे !! बधाई हो वापसी की टोपालोव !!
अगर आप हार रहे हो ,पूरी दुनिया आपकी आलोचना कर रही है और आपने खुद काफी गलतियाँ की हो ऐसे में भी हार ना मानना और खुद पर भरोसा रखते हुए वापसी करना यह  किसी योद्धा के लिए ही संभव है और मेरे हिसाब से टोपालोव एक शानदार योद्धा है !!
टोपालोव नें अपने तीन शक्तिशाली प्यादे एक साथ लाने के लिए अपना घोडा कुर्बान कर

43...h5!! एक शानदार चाल साबित हुई और टोपालोव दवाब बनाने के साथ जीत दर्ज करने में सफल रहे 

10 वर्षीय केंडीडेट मास्टर अदित्य मित्तल द्वारा अंतिम राउंड का विश्लेषण :

[Event "London Chess Classic 2016"]
[Site "?"]
[Date "2016.12.18"]
[Round "9.5"]
[White "Aronian, Levon"]
[Black "Topalov, Veselin"]
[Result "0-1"]
[ECO "A37"]
[WhiteElo "2785"]
[BlackElo "2760"]
[Annotator "Aditya Mittal"]
[PlyCount "106"]
[EventDate "2016.??.??"]
[TimeControl "5400+30"]
[WhiteClock "0:20:35"]
[BlackClock "0:00:40"]
{Finally, a break for Topalov! Wesley drew his game and won the London Chess
Classic. Today Topalov finally played a successful sac. Let's look at this
extremely interesting game!} 1. c4 g6 {0} 2. Nc3 {0} c5 {0} 3. g3 {0} Bg7 {0}
4. Bg2 {0} Nc6 {A symmetrical structure has arisen.} 5. Nf3 {0} d6 {0} 6. O-O {
0} e6 {0} (6... e5 {is the reverse of Veselin's style. He plays completely
different than positional chess. Aggressiveness is in his blood!}) 7. e3 {0}
Nge7 {0} 8. d4 {0} O-O {0} 9. Re1 {0} a6 {0} 10. Bd2 {0} Rb8 $5 {Topalov is
known for sacs, not accepting them!} (10... cxd4 11. exd4 Nxd4 12. Nxd4 Bxd4
13. Bg5 $1 Bxc3 14. bxc3 $13 {and White has good compensation because of the
bishop pair.}) 11. Rc1 {0} b6 {334} (11... b5 $5 {was very well expected. I
was surprised to not see him play this.} 12. dxc5 (12. cxb5 axb5 13. a4 cxd4
14. Nxb5 dxe3 15. Bxe3 Bxb2 $10 {is comfortable.}) 12... dxc5 13. Ne4 b4 $5 14.
Nxc5 Bxb2 $13 {and it's an interesting position.}) 12. Ne2 e5 $1 {This is
different than the e5 mentioned earlier. Here it creates 'tension' in the
centre.} 13. Bc3 {0} h6 {612} 14. d5 {173} Nb4 {103} 15. Ra1 $1 {Now looks at
that! And it is the best move!} (15. a3 Na2 $15 {looks so aesthetically
pleasing!}) 15... b5 $5 {893 Completely fitting into Topalov's bill! Just what
the doctor ordered! After a passive draw in round 8, Topalov livens things up!}
(15... e4 {is what the engines have to say. White retains a slight pull after}
16. Bxg7 Kxg7 17. Nd2 Nd3 18. Nxe4 Nxe1 19. Qxe1 {with good compensation.}) 16.
a3 {400} bxc4 {46} (16... a5 $5 {was another way but I think the text is more
precise and more unclear as we shall see!}) 17. axb4 {35} cxb4 {41} 18. Bd2 {35
} Nxd5 {Black has three pawns for the piece but it is not enough as Aronian
will get one pawn soon, but of course....} 19. Qc1 {44} c3 $1 {653} (19... Nf6
{is the engine choice but I don't understand it.} 20. Qxc4 $16) 20. bxc3 b3 {
Kuch paane ke liye kuch khona hota hai! To get something, you need to give
something! Over here Topalov gets a big big passer.} 21. Qb1 $6 {955} (21. Qa3
$1 {or}) (21. Qb2 $1 {were good giving White good edge.}) 21... Nf6 22. Qb2 {
What was the point of the subtle Qb1-Qb2, may I ask, Mr Aronian?} Qc7 $1 {
Again a good move in contrast to the engine. Topalov is really getting on here!
} (22... Ne4 $6 {I don't like this. After} 23. Nxe5 Nxd2 24. Nxf7 $1 $14 {
You could say White has a safe edge.}) 23. c4 {537} Qxc4 {1055} 24. Nc3 $5 {
After this Topalov starts to become extremely precise.} (24. Ba5 $5 {was an
interesting option to activate the bishop.}) 24... Be6 $1 {303 From now on
Veselin develops his pieces quickly and shows the importance of it.} 25. Rec1 {
162} Nd7 {There is no good discovered attack!} (25... Rfc8 {directly is also
possible.}) 26. e4 {286} (26. Ra4 {At first this seemed to be very strong but
after} Rb4 27. Ra3 Nc5 28. Nb1 Qe2 $1 29. Re1 Qb5 $1 $13 {would Bea took down
for three pawns but very active pieces!!!}) 26... Nc5 {765} 27. Bf1 {373} (27.
Ne1 $5 {was also an interesting way but here also} Qb4 $1 $13) 27... Qb4 {300}
(27... Nd3 $5 {was another move to look at but I think Qb4 is more precise.}
28. Bxd3 Qxd3 29. Ne1 Qc4 30. Ra4 Rb4 31. Ra5 $1 {is complicated.}) 28. Be3 {
489} Rfc8 {164} 29. Nd2 $6 {A big inaccuracy! Better was} (29. Bxc5 $1 Rxc5 30.
Ra4 Qb7 31. Ne1 $1 $13 {with all three results in contention!}) 29... a5 30.
Bxc5 {Better late than never!} Rxc5 {242} 31. Ra4 {231} Qb7 {130} (31... Qb6 {
Many said this was better, but it doesn't really make much of a difference.})
32. Bc4 $6 {82 Aronian goes wrong! What great pressurising chess by Veselin!} (
32. Ncb1 $1 {was more precise. After} Rbc8 33. Rxc5 Rxc5 $10 {The game is
roughly balanced.}) 32... Qc6 $1 {166} 33. Bd5 {431} Bxd5 {58} 34. exd5 {
35 A crucial decision. Black has a number of options at his disposal. Topalov
finally goes wrong!} Qd7 $6 {55 Actually, not wrong! It is just an inaccuracy.
The best option was} (34... Qc7 $1 35. Nde4 Rc4 $15 {and Black is already
better. Whereas the most interesting line was....}) (34... Rxd5 $6 35. Nxb3 e4
36. Nxa5 Rxb2 37. Nxc6 Rc5 38. Nd4 $13 {with a very unclear ending!}) 35. Ra3 {
110} a4 $1 {215 But Topalov wasn't going to back down. He came back with full
force!} (35... e4 $5 {could also be considered.} 36. Rxb3 Rxb3 37. Qxb3 Qc7 38.
Ndxe4 Rc4 39. Rd1 Bxc3 40. Nxd6 $1 Rb4 41. Qc2 Qxd6 42. Qxc3 {After a long
forced sequence this is a completely drawn position.}) 36. Nxa4 {41} Rxd5 {127}
37. Nxb3 {209} e4 {55} 38. Qa2 {194} Qf5 $1 {90 Topalov is simply playing
amazing! How come this sudden change?} (38... Rd3 {was what I was seeing but
after} 39. Nd2 $1 Rxa3 40. Qxa3 $14 {White has a safe and stable edge.}) 39.
Re1 {441} Rdb5 {78} 40. Rc1 {0} d5 {0 Topalov described this position as "just
equal".} (40... Rb4 {is the engine top choice and might be better.}) 41. Nac5 {
0} d4 $1 {0 Practical chess at its best. Everyone will be scared on seeing
this pawn avalanche.} 42. Ra7 {0} (42. Ra5 $1 {was better.} Rxa5 43. Qxa5 Qd5
$13 {is extremely unclear.}) 42... d3 {0} 43. Rc7 $6 {0 Now Topalov goes back
to how he played in Saint Louis! Such strong chess!} (43. Ra5 {was still
better though Black already has the initiative.}) 43... h5 $3 {0 It does feel
like Topalov is back. What a way to win!} 44. Qa4 {0} h4 {0} (44... e3 $5 {
was possible.} 45. fxe3 Bh6 {with the initiative.}) 45. Qxe4 {83} Qxe4 {0} 46.
Nxe4 {3} Rxb3 $15 {0 Black has reached a better endgame.} 47. gxh4 $4 {75 The
decisive mistake.} (47. Rd7 $1 {was the best chance.}) 47... Bh6 {0} 48. Rf1 {
235} R3b4 {0} 49. f3 {169} Rb2 {0} 50. Nf6+ {693} Kg7 {0} 51. Ng4 {5} d2 {0}
52. Rd7 {308} Re8 {0} 53. Nf2 {116} Re1 {0 What a game by Topalov! We must
give him credit. Elsewhere we had draws and with it finished the London
Classic!} 0-1

अदित्य मित्तल नें चेसबेस इंडिया के पाठको के लिए बहुत बढ़िया विश्लेषण किया धन्यवाद ! छोटे उस्ताद हम उन्हे अपनी पसंद का सॉफ्टवेयर लेने की पेशकश करते है 
अंतिम परिणाम 

The final standings at the London Chess Classic 2016 

2016 की विदाई के बाद ग्रांड चैस टूर 2017 का कार्यक्रम 

छह खिलाड़ी जो ग्रांड चैस टूर 2017 के लिए चयनित हुए है 
पंजाब केशरी में मेरा आज का लेख