chessbase india logo
Hindi News

 

 

स्पैनिश डायरी -03- हिमांशु के कमाल से भारत गुलजार !

by निकलेश जैन - 13/07/2017

हिमांशु शर्मा के शानदार खेल के चलते बार्सिलोना ,स्पेन में कॅटलन सर्किट के दूसरे प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में भी भारत का जलवा बरकरार रहा और लगातार दूसरे टूर्नामेंट का खिताब भारत के खाते में गया । मोंट काड़ा में श्याम सुंदर तो बारबेरा में हिमांशु शर्मा नें अपने शानदार खेल से समा बांध दिया और खिताब अपने नाम किया । भारत के बाहर यह उनकी पहली ख़िताबी जीत है वह पूरे समय जोरदार लय में नजर आए और बेहद आक्रामक खेले पर खिताब जीतने के लिए सिर्फ आपको आक्रामक ही नहीं रक्षात्मक खेल का भी प्रदर्शन करना होता है तो कैसे उन्होने बेहद ही रोमांचक मैच में खुद पर गज़ब का नियंत्रण रखते हुए जीत दर्ज की यह उनकी कभी हार ना मानने की क्षमता को दिखाता है । कैसा रहा अन्य भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन और कैसी चल रही है स्पेन में हमारी जिंदगी पेश है स्पैनिश डायरी का तीसरा लेख .. 

    स्पेन मे चल रहा यह केटलन सर्किट का यह दूसरा प्रमुख टूर्नामेंट 4 -12 जुलाई के बीच आयोजित हुआ 

बारबेरा इंटरनेशनल टूर्नामेंट नें अपना 40वां संस्करण सफलतापूर्वक सम्पन्न किया और सच पूछिये तो मुझे लगता है किसी आयोजक का यह काम किसी बड़े खिलाड़ी के खेल को किए किसी भी योगदान से बढ़कर है 

ग्रांड मास्टर हिमांशु शर्मा पहले टूर्नामेंट में वीसा देर से मिलने की वजह से नहीं खेल पाये थे पर दूसरे टूर्नामेंट में उन्होने शुरुआत से ही बेहतरीन खेल दिखाया 

शतरंज ओलंपियाड में भारत का नेतृत्व कर चुके अनुभवी इंटरनेशनल मास्टर अनूप देशमुख वर्तमान समय में भारत के +50 के खिलाड़ियों में एकमात्र खिलाड़ी है जो अब लगातार मैच खेल रहे है उनके लिए यह ट्रिप भी एक नया अनुभव साबित हो रहा है और ऐसे में डिजिटल वर्ल्ड के जमाने उनके नए दोस्त उनसे जुडते जा रहे है 

तो दरअसल स्पेन में खेलना सिर्फ आपको मैच खेलने का मजा नहीं देता बल्कि दुनिया के कोने कोने से आए आपको जीवन पर्यंत याद रखने वाले दोस्त भी देता है 

अंतिम राउंड के पहले हिमांशु 7 अंको के साथ बढ़त पर थे और उन्हे जीत के लिए आधा अंक कम से कम चाहिए था पर यह आधा अंक बिलकुल आसान नहीं था 

सफ़ेद मोहरो से खेल रहे हिमांशु बेहद मुश्किल में थे और ऐसे में सिर्फ आपकी अंतिम समय तक लड़ने की काबलियत ही आपको बचा सकती है और हिमांशु के साथ भी यही हुआ और उन्होने अपने आप पर बेहद मुश्किल स्थिति में भी संयम रखा और सामने वाले की गलतियों नें उन्हे वापसी का मौका दिया 

52.. Bc5  हिमांशु के लिए आखिर उम्मीद थी अभी भी सही चाल चलकर मेलिह मैच को अपने पक्ष में कर सकते थे दोनों ही खिलाड़ी इस समय दबाव में थे 

काले की चाल आप क्या चलेंगे !

यही वह चाल साबित हुई जिसने खेल में हिमांशु की वापसी और खिताब दोनों तय कर दिये !

[Event "40th Barbera International "]
[Site "?"]
[Date "2017.07.12"]
[Round "9"]
[White "Himanshu, Sharma"]
[Black "Yurtseven, Melih"]
[Result "1/2-1/2"]
[ECO "C04"]
[WhiteElo "2498"]
[BlackElo "2353"]
[Annotator "Niklesh"]
[PlyCount "119"]
[EventDate "2017.07.13"]
[SourceDate "2017.07.13"]
[SourceVersionDate "2017.07.13"]

1. e4 e6 2. d4 d5 3. Nd2 Nc6 4. Ngf3 Nf6 5. e5 Nd7 6. Nb3 Be7 7. Bb5 a5 8. a4
Na7 9. Be2 b6 10. Bf4 c5 11. c3 Bb7 12. Nc1 Nc6 13. O-O h6 14. Re1 Qc7 15. Bb5
c4 16. Nd2 Na7 17. Bxd7+ Kxd7 18. Ne2 Rag8 19. Rf1 h5 20. Be3 h4 21. f4 h3 22.
g3 f5 23. Nf3 Nc6 24. Kf2 Nd8 25. Ng5 Rf8 26. Ng1 Nf7 27. Nxf7 Rxf7 28. Nf3
Rff8 29. Ke2 Bc6 30. Ng5 Bxg5 31. fxg5 Kc8 32. Bf4 Kb7 33. Qb1 Ka6 34. Rf2 Rb8
35. Kf1 b5 36. axb5+ Rxb5 37. Qd1 Be8 38. Kg1 Bh5 39. Qf1 Bg4 40. Ra3 Rhb8 41.
Bc1 Rb3 42. Rxb3 Rxb3 43. Qe1 g6 44. Qd2 Qc6 45. Qc2 Qa4 46. Kf1 Qa1 47. Ke1 a4
48. Rf1 Ka5 49. Kd2 a3 50. bxa3 Rxa3 51. Bxa3 Qxf1 52. Bc5 Qf2+ 53. Kc1 Qe1+
54. Kb2 Bd1 55. Qc1 Kb5 56. Ka3 Ka5 57. Bd6 Qe2 58. Qb2 Qxb2+ 59. Kxb2 Ka4 60.
Bc5 1/2-1/2

युर्त्सेवेन मेलिह को यह जीत तीसरा स्थान दिला सकती थी पर वह 6.5/9 अंक के साथ आठवे स्थान पर रहे 

मैच के बाद चेसबेस इंडिया नें हिमांशु से बात की 

छठे राउंड में क्यूबा के इंटरनेशनल मास्टर ओलिवा केवल पर उनकी जीत बेहद खास रही 

[Event "XL Open Int. Barbera del Valles 2017"]
[Site "C/ Torre d’en Gorgs, nº 40,"]
[Date "2017.07.09"]
[Round "6.2"]
[White "Oliva Castaneda, Kevel"]
[Black "Himanshu, Sharma"]
[Result "0-1"]
[ECO "A00"]
[WhiteElo "2497"]
[BlackElo "2498"]
[PlyCount "78"]
[EventDate "2017.07.04"]
[EventRounds "9"]
[EventCountry "CAT"]

1. Nf3 d5 2. g3 c6 3. Bg2 Nf6 4. O-O Bg4 5. d3 e6 6. Nbd2 Be7 7. h3 Bh5 8. g4
Bg6 9. Ne5 Nbd7 10. Nxg6 hxg6 11. Nf3 Qc7 12. c4 dxc4 13. dxc4 Bc5 14. Qb3 e5
15. Rd1 a5 16. Ng5 O-O 17. Qg3 Rfe8 18. Bd2 Nf8 19. b3 Qe7 20. Rab1 Bb6 21. Bc3
Bc7 22. Qe3 N6d7 23. Qd2 Rad8 24. Ne4 Ne6 25. Ng3 Ndc5 26. Qe1 Ra8 27. e3 Qh4
28. f3 Qh6 29. Nf1 f5 30. Rd2 e4 31. f4 Nd3 32. Qd1 Rad8 33. gxf5 gxf5 34. Ng3
Nexf4 35. exf4 Qxf4 36. Rxd3 exd3 37. Nf1 Re2 38. Be1 Bb6+ 39. Kh1 Qd4 0-1

 

दुलीबाला चन्द्र प्रसाद नें अंतिम राउंड में पूर्व विजेता अर्मेनिअन ग्रांड मास्टर केरेन ग्रिगोरेन के साथ मुक़ाबला ड्रॉ खेला और 6.5 /9 अंको के साथ छठवे स्थान पर रहे उन्होने मोंटकाड़ा की तरह इधर भी इंटरनेशनल मास्टर नोर्म हासिल किया 

अर्मेनिअन ग्रांड मास्टर केरेन ग्रिगोरेन के 7 /9 अंक के साथ दूसरे स्थान पर रहे 

बांग्लादेश के फीडे मास्टर नासिर अहमद (दायें ) नें अच्छा खेल दिखाते हुए इंटरनेशनल मास्टर नार्म हासिल किया वह 6.5/9 के साथ सातवे स्थान पर रहे ।  

हिमांशु से हारने के बाद क्यूबा की ओलिवा केवल ( बाए )नें जोरदार वापसी की और वह 6.5 /9 के साथ चौंथे स्थान पर रहे 

इनयान पी इस बार 5.5/9 अंक के साथ 18वे स्थान पर रहे 

देवर्षि मुखर्जी 5.5/9 अंक के साथ 22वे स्थान पर रहे 

अनीश गांधी नें जोरदार खेल दिखाया और वह 5.5 /9 अंक के साथ 71 रेटिंग बढ़ाते हुए 24वे स्थान पर रहे 

अभिषेक दास 5/9 अंको के साथ 27वे स्थान पर रहे 

इंटरनेशनल मास्टर अनूप देशमुख 5/9 और वन्तिका अग्रवाल 4.5/9 अपने रेटिंग ग्रुप के शीर्ष खिलाड़ी साबित हुए 

मध्य प्रदेश से उभरती प्रतिभा अनुज श्रीवत्रि 5/9 अंको के साथ 37वे स्थान पर रहे और इस बार उन्होने अपनी रेटिंग में 71 अंक और जोड़े मतलब दो टूर्नामेंट में उन्होने कुल 188 अंको की बढ़त हासिल की है । 

फ़ाइनल रैंकिंग !

Rk. SNo     Name Typ sex Gr FED RtgI RtgN Pts.  TB1   TB2   TB3 
1 6   IM Himanshu Sharma       IND 2498 0 7,5 42,0 53,0 0,0
2 2   GM Grigoryan Karen H.       ARM 2555 0 7,0 40,5 52,0 0,0
3 12   GM Perez Mitjans Orelvis       ESP 2407 2414 6,5 40,5 52,5 0,0
4 7   IM Oliva Castaneda Kevel       CUB 2497 0 6,5 40,5 51,5 0,0
5 18   FM Soysal Serkan A     TUR 2367 0 6,5 39,5 50,5 0,0
6 26     Dhulipalla Bala Chandra Prasad A     IND 2335 0 6,5 38,5 49,5 0,0
7 41   FM Ahmed Sk. Nasir B     BAN 2221 0 6,5 37,0 45,0 0,0
8 21   FM Yurtseven Melih A     TUR 2353 0 6,5 36,5 47,0 0,0
9 36   FM Ayats Llobera Gerard A-U1   2326 ESP 2261 2270 6,5 34,5 43,5 0,0
10 5   GM Burmakin Vladimir       RUS 2505 0 6,0 40,5 52,0 0,0

 

 लाइफ इन स्पेन !!

52 दिनो का वक्त आपको अपने खास दोस्तो के साथ एक अच्छा समय बिताने को भी अच्छा मौका देता है 

बार्सिलोना ! पर्यावरण के प्रति जागरूक शहर यहाँ यह जोड़ना बस औपचारिकता ही है की मैं इस शहर को बेहद पसंद करता हूँ लोगो की अपने काम के प्रति ज़िम्मेदारी आपको हतप्रभ कर देती है ! तो हम भी इसी कोशिश में है की अपने हिस्से के काम खुद कर सके !!

            

                    ये विडियो आपको अंदाजा देगा की किस तरह चल रही है स्पेन में हमारी जिंदगी !! 

उम्मीद है आपको स्पैनिश डायरी पसंद आ रही होगी फिर मिलेंगे जल्द ही संत मार्टी इंटरनेशनल के लेख के साथ !

आपका दोस्त निकलेश जैन !!

 


Sharing statistics:


Share on: