chessbase india logo
Hindi News

 

 

फीडे प्रेसिडेंट का इस्तीफा ? सच है या साजिश ??

by निकलेश जैन - 30 March 2017

विश्व शतरंज जगत में पिछले तीन दिनो से घमासान मचा हुआ है कारण है फीडे प्रेसिडेंट किरसन इल्यूम्ज़्हिनोव के इस्तीफे की खबरे जो कहीं और से नहीं बल्कि खुद फीडे ( विश्व शतरंज संघ ) की अधिकृत वैबसाइट पर जारी की गयी । जैसे ही 26 मार्च को एथेंस में फीडे की मीटिंग खत्म हुई  अगले दिन 27 मार्च को दोपहर को 12 बजकर 34 मिनट पर  फीडे प्रेसिडेंट किरसन इल्यूम्ज़्हिनोव के इस्तीफे की खबर के साथ अप्रैल में इस पर बात करने के लिए प्रेसीडेंटल बोर्ड की आपात मीटिंग बुलाने की बात प्रकाशित हुई । थोड़ी ही देर के अंदर बात आग की तरह दुनिया में फैल गयी तभी अचानक थोड़ी ही देर में रूस चेस की वैबसाइट पर किरसन नें अपने इस्तीफे की खबरों को जूठा करार देते हुए इसे अमेरिकन चेस फेडरेसन की साजिश करार दे दिया । तब से अब तक लगातार इस मुद्दे पर लगतार अलग अलग अधिकारियों के पत्र और किरसन के जबाब सामने आ रहे जो भी इस उठापटक में खेल का नुकसान ना हो यही उम्मीद है 

 बात शुरू हुई फीडे की वैबसाइट पर किए गए इस आधिकारिक पोस्ट से जिसमें अध्यक्ष के इस्तीफे की बात थी 

कुछ ही घंटो के अंदर रूसी फेडरेसन की वैबसाइट पर किरसन का जबाब आया जिसमें उन्होने किसी भी इस्तीफे से इंकार करते हुए इस झूठ बताया और खुद के खिलाफ साजिश का आरोप लगाया 

 

किरसन इल्यूम्ज़्हिनोव नें जल्द ही रूस और दुनिया के समस्त संघो को पत्र लिखा जिसमें उन्होने अपने इस्तीफे की खबरों को निराधार और कोरी अफवाह बताते हुए कहा की उन्होने कोई भी आधिकारिक इस्तीफा नहीं दिया है ।  

 टेलीग्राफ पर प्रकाशित पर भी लेख भी आप पढ़ सकते है 

 

इसके बाद ही किरसन इल्यूम्ज़्हिनोव नें अपने बेहद खास रहे नाइजल फ्रीमन को पत्र लिखते शिकायत की उन्होने जो फीडे वैबसाइट मे उनके बारे मे खबर प्रकाशित की है वो पूरी तरह से निराधार है 

 

 

पर नाइजल के जबाब से विवाद और गहरा गया जब उन्होने कहा की मीटिंग मे आपने कई बार इस्तीफे की धम्की दी थी और जाने के पहले तीन बार जोरों से कहा था की "मैं इस्तीफा दे रहा हूँ " उसके बाद ही 10 अप्रैल को प्रेसीडेंटल बोर्ड मीटिंग बुलाई गयी थी 

 

                          26 मार्च को फीडे की यही वो मीटिंग है जिसके बाद यह सारा विवाद शुरू हुआ 

इसके तुरंत बाद 28 मार्च को किरसन इल्यूम्ज़्हिनोव नें सभी फेडरेसन को पत्र लिखकर खुद के 2018 तक कार्यकाल पूरा करने की प्रतिबद्धता जताई और बुलाई गयी बैठक को गैर जरूरी बताया 

पढे यह लेख जो इस इस्तीफे की खबर पर प्रकाशित हुआ 

किरसन इल्यूम्ज़्हिनोव नें नाइजल फ्रीमन को पत्र लिखते हुए कहा की मीटिंग खत्म होने के बाद कुछ हम सब के बीच कुछ भावुक बाते हुई और उस दौरान मैंने जो भी कहा उसका गलत मतलब निकाला गया । चूकी अङ्ग्रेज़ी मेरी मात्रभाषा नहीं है मेरी बात का मतलब था की "मैं फीडे प्रेसिडेंट का पद छोड़ने को तैयार हूँ अगर फीडे के लिए यह जरूरी होगा । 

ऐसा लगा की मामला शांत हो जाएगा की तभी 29मार्च को फीडे के लंबे समय से उपाध्यक्ष जॉर्ज मक्रोपौलेस नें भी एक पत्र लिख दिया और कुल मिलाकर बात थोड़ी और उलझती नजर आई । 

उन्होने किरसन इल्यूम्ज़्हिनोव के दावे को जूठा करार देते हुए नाइजल को सच प्रकाशित करने पर अपमानित करने पर आपत्ति जताई और साथ ही कहा की जो भी हुआ वो आपकी ही गलती थी ऐसे में मीडिया के सामने गलत आरोप लगाना उचित नहीं है उन्होने किरसन को कहा की फीडे मीटिंग की रिकॉर्डिंग से सब कुछ सामने आ जाएगा और कहा की उम्मीद है मेरे इस पत्र से आपको इस मुद्दे के सही पहलू को सामने लाने में मदद मिलेगी । 

 

 अब देखना होगा की आगे ये विवाद कैसे खत्म होता है और खैर जो भी हो खेल को नुकसान ना हो ।  


Sharing statistics:


Share on: